उत्तर प्रदेश

Varanasi:सुभाष के सत्य पर नए शोध जरूरी, इंद्रेश कुमार बोले-  नेताजी के नाम पर कराची से काशी तक सब  एक  थे – New Research Is Necessary On Truth Of Subhash Chandra Boase Indresh Kumar Said

Share If you like it

आरएसएस प्रचारक इंद्रेश कुमार।

आरएसएस प्रचारक इंद्रेश कुमार।
– फोटो : amar ujala

विस्तार

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश कुमार ने कहा कि अखंड भारत की आजादी का पूरा खाका सुभाष चंद्र बोस के पास था। आजाद हिंद फौज को जब 10 देशों की सरकारों ने मान्यता दे दी तो उन्होंने वैधानिक तरीके से देश को आजाद कराने की शपथ ली। नेताजी के शपथ ने ही हिंदुस्तान को आजादी दिलाई।नेताजी होते तो देश का बंटवारा नहीं होता। देश के विभाजन से बड़ी त्रासदी दूसरी नहीं हो सकती है। 

रविवार को लमही स्थित सुभाष भवन में विशाल भारत संस्थान की ओर से आयोजित सुभाष जयंती समारोह के चौथे दिन इंद्रेश कुमार ने कहा कि सुभाष चंद्र बोस के सत्य पर नए शोध की जरूरत है।  विश्वविद्यालयों में सुभाष चेयर स्थापित की जानी चाहिए। कांग्रेस ने आजाद हिंद फौजियों के नाम तक मिटा दिए। अब इतिहास स्वीकार कर रहा है कि आजाद हिंद सरकार ने वैधानिक रूप से देश को आजादी दिलाई है।

मुख्य अतिथि डॉ. के सिरि सुमेधा थेरो ने कहा कि नेता तो बहुत हैं पर नेताजी तो सुभाष चंद्र बोस ही हैं। बीएचयू की प्रो. बिंदा परांजपे ने कहा कि नेताजी ने नारी शक्ति को पहचाना और राष्ट्र के निर्माण में उनकी भूमिका तय की। प्रो. प्रवेश भारद्वाज ने कहा कि नेताजी के अंदर अलौकिक शक्ति थी। प्रो. अशोक कुमार सिंह ने कहा कि नेताजी सुभाष चन्द्र बोस पर स्वामी विवेकानन्द जी का प्रभाव था। 

Source link

Most Popular

To Top

Subscribe us for more latest News

%d bloggers like this: