उद्योग/व्यापार

Tata Power ने बीकानेर ट्रांसमिशन RE प्रोजेक्ट का किया अधिग्रहण, 1544 करोड़ में जीती बोली

टाटा पावर (Tata Power) ने बीकानेर ट्रांसमिशन रिन्यूएबल एनर्जी प्रोजेक्ट के अधिग्रहण की बोली जीत ली है। कंपनी ने बताया कि उसने करीब 1544 करोड़ रुपये में बीकानेर-III नीमराना-II ट्रांसमिशन रिन्यूएबल एनर्जी प्रोजेक्ट के अधिग्रहण की बोली जीती। यह एनर्जी प्रोजेक्ट पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन की सब्सिडियरी कंपनी PFC Consulting द्वारा स्थापित एक स्पेशल परपज व्हीकल (SPV) है। SPV को स्पेशल परपज एंटिटी यानी SPE भी कहा जाता है। यह पेरेंट कंपनी द्वारा अपने वित्तीय जोखिमों को अलग करने के लिए बनाई गई सब्सिडियरी कंपनी होती है।

कंपनी का बयान

कंपनी ने एक एक्सचेंज फाइलिंग में कहा कि “प्रोजेक्ट में बीकानेर-III पूलिंग स्टेशन से नीमराणा II सबस्टेशन तक 340 किलोमीटर के ट्रांसमिशन कॉरिडोर की स्थापना शामिल है।” बिल्ड-ओन-ऑपरेट-ट्रांसफर (BOOT) आधार पर शुरू की जाने वाली यह ट्रांसमिशन प्रोजेक्ट है। इसके तहत राजस्थान के बीकानेर कॉम्प्लेक्स से 7.7 गीगावाट (GW) रिन्यूएबल एनर्जी का उत्पादन किया जाएगा।

टाटा पावर 35 साल तक करेगी मेंटेनेंस

टाटा पावर 35 साल तक ट्रांसमिशन प्रोजेक्ट का मेंटेनेंस करेगी। SPV ट्रांसफर डेट से 24 महीने के भीतर प्रोजेक्ट के शुरू होने की उम्मीद है। कंपनी ने यह भी कहा कि सफल शुरुआत पर यह परियोजना 2022 में बिजली मंत्रालय की रोडमैप में एक अहम कंपोनेंट के रूप में काम करेगी। इस रोडमैप का लक्ष्य 2030 तक 500 गीगावाट (GW) से अधिक रिन्यूएबल एनर्जी कैपिसिटी को नेशनल ग्रिड में इंटीग्रेट करना है।

हाल ही में, कंपनी की सब्सिडियरी कंपनी टाटा पावर रिन्यूएबल एनर्जी लिमिटेड (TPREL) को SJVN के साथ 200 मेगावाट की फर्म एंड डिस्पैचेबल रिन्यूएबल एनर्जी (FDRE) प्रोजेक्ट डेवलप करने का काम सौंपा गया था। प्लांट को सावधानी के साथ हाइब्रिड कॉन्फ़िगरेशन के साथ डिजाइन किया गया है जिसमें सोलर, विंड और बैटरी स्टोरेज कंपोनेंट शामिल हैं।

Source link

Most Popular

To Top