उद्योग/व्यापार

Crude Oil Price: टूटने जा रहा था 5 साल का रिकॉर्ड, आखिरी वक्त के उछाल ने संभाला मामला

कच्चे तेल की कीमत के मामले में पिछले 5 साल का रिकॉर्ड, गुजरे सप्ताह में टूटने की कगार पर था। दरअसल पिछले 5 वर्षों में पहली बार तेल की कीमतें लगातार 7वें सप्ताह गिरावट की ओर थीं। लेकिन आखिरी वक्त पर ऐसा होने से बच गया क्योंकि सप्ताह खत्म होते-होते तेल की कीमत फिर से बढ़ी। इसके पीछे वजह रही सऊदी अरब और रूस की ओर से ओपेक+ सदस्य राष्ट्रों से कच्चे तेल के उत्पादन में कटौती में शामिल होने की अपील। शुक्रवार को ब्रेंट क्रूड वायदा 1.46 डॉलर या 2% बढ़कर 75.51 डॉलर प्रति बैरल पर था, जबकि यूएस वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट क्रूड वायदा 1.33 डॉलर या 1.9% बढ़कर 70.67 डॉलर प्रति बैरल पर था। इससे पहले ब्रेंट में 2 डॉलर की तेजी आई थी।

दोनों बेंचमार्क क्रूड, इससे पहले के सेशन में जून के अंत के बाद से अपने सबसे निचले स्तर पर आ गए थे। रिकॉर्ड उच्च अमेरिकी उत्पादन, चीन की ओर से कच्चे तेल का इंपोर्ट सुस्त पड़ना और तेल उत्पादन में कटौती को लेकर ओपेक+ की ओर से सपोर्ट की कमजोर स्थिति से तेल की कीमतों को झटका लगा। दुनिया के दो सबसे बड़े ऑयल एक्सपोर्टर सऊदी अरब और रूस ने गुरुवार को सभी ओपेक+ सदस्य राष्ट्रों से वैश्विक अर्थव्यवस्था की भलाई के लिए कच्चे तेल उत्पादन में कटौती पर एक समझौते में शामिल होने की अपील की।

Source link

Most Popular

To Top