विश्व

हेती में गैंग हिंसा के कारण लाखों लोग भूखे पेट रहने को मजबूर

संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम – WFP का कहना है कि देश में इस समय लगभग 50 लाख लोग, खाद्य अभाव की अति गम्भीर स्थिति का सामना कर रहे हैं.

देश में WFP के निदेशक जियाँ मार्टिन बुएर ने, न्यूयॉर्क मुख्यालय में मौजूद पत्रकारों को वीडियो लिंक के ज़रिए सम्बोधित करते हुए बताया कि इनमें से लगभग 16 लाख लोगों को, आपात खाद्य असुरक्षा के हालात का सामना करने वालों के रूप में परिभाषित किया गया है.

उन्होंने कहा, “यह अभी तक की रिकॉर्ड उच्च संख्या है. वर्ष 2010 के बाद, इस स्तर की खाद्य असुरक्षा का सामना करने वाले लोगों की ये सबसे बड़ी संख्या है.”

विस्थापितों को भरपेट भोजन 

जियाँ मार्टिन बुएर का ये प्रैस सम्बोधन ऐसे दिन हुआ जब, कुछ ही देर पहले, WFP और FAO सहित संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न एजेंसियों ने, दुनिया भर में खाद्य अभाव की अति गम्भीर स्थिति का सामना करने वाले स्थानों के बारे में अपनी नवीनतम रिपोर्ट जारी की थी. इनमें ग़ाज़ा, सूडान और हेती के नाम भी शामिल हैं.

जियाँ मार्टिन बुएर ये प्रैस वार्ता हेती की राजधानी पोर्ट ओ प्रिंस में स्थित एक ऐसे सामुदायिक किचन से की, जिसे WFP चला रहा है और जहाँ से उन लोगों को ताज़ा भोजन की ख़ुराकें मुहैया कराई जाती हैं, जो गैंग हिंसा, लगातार असुरक्षा और मानवाधिकार उल्लंघन के कारण विस्थापित हैं. इन घटनाओं ने हाल के वर्षों में देश को झकझोर दिया है.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने, हेती की राष्ट्रीय पुलिस की मदद करने के लिए, एक बहुराष्ट्रीय सुरक्षा समर्थन मिशन की तैनाती को मंज़ूरी दी है, अलबत्ता ये मिशन अभी तैनाती के लिए तैयारी की अवस्था में है.

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) हेती में, गैंग हिंसा के कारण विस्थापित और खाद्य अभाव से पीड़ित लोगों की मदद करने की कोशिश कर रहा है.

हवाई अड्डा ठप

इस कैरीबियाई देश में स्थिति, इस वर्ष मार्च के आरम्भ में उस समय और भी बिगड़ गई थी जब अपराधी गुटों ने राजधानी पर अपनी पकड़ मज़बूत कर ली थी. इस दौरान उन्होंने पुलिस थानों और अन्य महत्वपूर्ण सरकारी संस्थानों पर समन्वित हमले किए थे, और जेलों को तोडड़कर हज़ारों क़ैदियों को रिहा करा लिया था.

विमान उड़ानें ठप हो गई थीं और प्रधानमंत्री एरियल हैनरी ने इस्तीफ़ा दे दिया था.

जियाँ मार्टिन बुएर ने पत्रकारों के सवालों के जवाब देते हुए कहा कि हिंसा को देखते हुए इस समय सुरक्षा, “बिल्कुल पहली प्राथमिकता” है क्योंकि हिंसा ने लोगों के लिए बहुत बड़ा ख़तरा पैदा कर दिया है. देश के लोग अपने बच्चों को स्कूल नहीं ले जा सकते, ख़ुद सामान की ख़रीदारी करने के लिए नहीं जा सकते, और यहाँ तक कि प्रार्थना के लिए चर्च भी नहीं जा सकते.

जियाँ मार्टिन बुएर ने अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन एजेंसी – IOM के आँकड़ों का हवाला देते हुए बताया कि हेती में गैंग हिंसा ने, लगभग तीन लाख 60 हज़ार लोगों को उनके घरों से बेदख़ल कर दिया है. राजधानी में केवल मार्च में ही, एक लाख से अधिक लोग बाहर चले गए थे.

जियाँ मार्टिन बुएर ने, अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से हेती की मदद करने के लिए क़दम तेज़ करने का आग्रह किया क्योंकि देश की मदद के लिए गत फ़रवरी में जारी की गई 67.4 करोड़ डॉलर की सहायता अपील के जवाब में, केवल 22 प्रतिशत राशि ही प्राप्त हुई है.

WFP को भी देश में लोगों के लिए जीवनरक्षक सहायता कार्यक्रम चलाने की ख़ातिर 7.6 करोड़ डॉलर की रक़म की ज़रूरत है.

Source link

Most Popular

To Top