विश्व

यूक्रेन युद्ध भड़कने के बाद से अब तक दो हज़ार बच्चे हुए हताहत

योरोप व मध्य एशिया के लिए यूनीसेफ़ के क्षेत्रीय कार्यालय ने एक साझा वक्तव्य जारी किया है, जिसके अनुसार, यूक्रेन में फ़रवरी 2022 में शुरू हुए यूद्ध में अब तक 1,993 बच्चे हताहत हुए हैं. 

यह हर दिन दो बच्चों के हताहत होने के औसत को दर्शाता है. वक्तव्य में आशंका जताई गई है कि मृतक बच्चों का वास्तविक आँकड़ा इस अनुमान से कहीं अधिक होने की आशंका है.

यूक्रेन के कई हिस्सों में हमले अब भी जारी हैं, जिससे बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य व कल्याण पर गहरा असर हुआ है.

क़रीब 50 फ़ीसदी किशोरों को नीन्द लेने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है और हर पाँच में एक बच्चा अतीत की घटनाओं को याद कर रहा है.

यूनीसेफ़ का कहना है कि वयस्कों के बेपरवाही भरे निर्णयों व कृत्यों की क़ीमत बच्चों ने अपनी ज़िन्दगी, सुरक्षा व भविष्य से चुकाई है.

शिक्षा में व्यवधान

यूक्रेन में बच्चों को अपनी पढ़ाई-लिखाई में भी कठिनाइयों से जूझना पड़ रहा है. यूनीसेफ़ के अनुसार, क़रीब 50 फ़ीसदी बच्चे निजी तौर पर उपस्थित होकर स्कूलों में पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं.

देश भर में 10 लाख बच्चों के लिए असुरक्षा भरे हालात के कारण स्कूलों में उपस्थित हो पाना सम्भव नहीं है.

यूक्रेन में स्कूलों में पढ़ाई को बहाल करने और शरण व्यवस्था के लिए यूनीसेफ़ निरन्तर प्रयासरत है, साथ ही बच्चों को ऑनलाइन सीखने-सिखाने के लिए समर्थन व ज़रूरी किट प्रदान की जा रही हैं.

वर्ष 2023 में, यूएन ने औपचारिक व अनौपचारिक ढंग से 13 लाख बच्चों की पढ़ाई-लिखाई में मदद की, जबकि 25 लाख बच्चों व देखभालकर्मियों को मानसिक स्वास्थ्य व मनोसामाजिक समर्थन सेवाएँ प्रदान की गईं थी. 

युद्ध विराम की दरकार

यूनीसेफ़ का कहना है कि मौजूदा हालात के मद्देनज़र, यूक्रेन में बच्चों के संरक्षण के लिए जल्द से जल्द युद्धविराम लागू किया जाना ज़रूरी है.

इसके अलावा, घनी आबादी वाले इलाक़ों में विस्फोटक हथियारों का इस्तेमाल रोकना होगा, नागरिक प्रतिष्ठानों व बुनियादी ढाँचों पर हमलों पर विराम लगाना होगा, जिनसे ग़ैर-आनुपातिक ढंग से बच्चे प्रभावित होते हैं.

यूएन एजेंसी ने ध्यान दिलाया है कि यूक्रेन में बच्चों को सुरक्षा, स्थिरता, पढ़ाई-लिखाई और बाल संरक्षण सेवाओँ व समर्थन की ज़रूरत है.

वक्तव्य के अनुसार, यूक्रेनी बच्चों को सबसे अधिक शान्ति की आवश्यकता है. यूनीसेफ़ ने कहा है कि 2024 में मानवतावादी व पुनर्बहाली कार्यक्रमों के तहत 25 करोड़ डॉलर की ज़रूरत है ताकि बच्चों व उनके परिवारों के लिए अति-महत्वपूर्ण समर्थन प्रदान किया जा सके.

Source link

Most Popular

To Top