उद्योग/व्यापार

बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, ICICI-Videocon लोन केस में चंदा कोचर और उनके पति की गिरफ्तारी गैर-कानूनी

बॉम्बे हाई कोर्ट ने 6 फरवरी को कहा कि वीडियोकॉन लोन केस में ICICI बैंक की पूर्व MD और CEO चंदा कोचर (Chanda Kochhar) और उनके पति दीपक कोचर (Deepak Kochhar) की गिरफ्तारी अवैध थी। सीबीआई (CBI) ने इस केस में चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर को गिरफ्तार किया था। जस्टिस अनुजा प्रभुदेसाई और एन. आर. बोरकर की बेंच ने कोचर दंपति को मिली अंतरिम जमानत की पुष्टि करते हुए यह फैसला सुनाया। इन दोनों को 9 जनवरी, 2023 को अंतरिम जमानत दी गई थी।

सीबीआई ने चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर को 24 दिसंबर 2023 को गिरफ्तार किया था। साल 2012 में वीडियोकॉन ग्रुप (Videocon Group) को दिए गए 3,250 करोड़ रुपये के लोन में अनियमितता बरतने के आरोप में इन दोनों की गिरफ्तारी हुई थी। आरोप है कि कोचर के पति और उनकी फैमिली को इस डील से फायदा पहुंचा।

आरोपों के मुताबिक, वीडियोकॉन के पूर्व चेयमरैन वेणुगोपाल धूत ने न्यूपावर रिन्यूएबल्स (NuPower Renewables) में करोड़ों रुपये निवेश किए थे। इस कंपनी की स्थापना दीपक कोचर ने की थी और इसमें धूत का निवेश वीडियोकॉन ग्रुप को ICICI बैंक की तरफ से लोन दिए जाने के बाद हुआ था। वीडियोकॉन ग्रुप को अनुचित फायदा पहुंचाने के आरोपों के बाद चंदा कोचर ने अक्टूबर 2028 में ICICI बैंक की MD और CEO पद से इस्तीफा दे दिया था।

Source link

Most Popular

To Top