Uncategorized

दक्षिणपूर्व एशिया: गिरोह द्वारा संचालित ‘धोखाधड़ी केन्द्र’, अवैध गतिविधियों का अड्डा

केवल फ़िलिपीन्स में ही अनुमानित 400 ऐसे आपराधिक उद्यम होने का अनुमान है. ये लगभग हमेशा लाइसेंस प्राप्त और क़ानूनी ऑनलाइन गेमिंग गतिविधियों के साथ गोपनीय और अवैध रूप से संचालित होते हैं.

दुनिया भर में पीड़ितों को निशाना बनाने वाले ऑनलाइन, ‘घोटाला केन्द्र’ का प्रसार हाल ही में हुआ है, और कोविड-19 महामारी के दौरान इनमें तेज़ उछाल देखा गया.

फ़िलिपीन्स में संगठित अपराध निरोधी आयोग (PAOCC) ने हाल ही के वर्षों में ऐसी अनेक गतिविधियों व गिरोहों पर छापेमारी करके उन्हें बन्द किया है.

इस सिलसिले में, यह आयोग, मादक पदार्थों एवं अपराध पर यूएन कार्यालय (UNODC) के सहयोग से कार्य कर रहा है ताकि अन्य देशों के साथ काम करने के तौर-तरीक़ों के ज़रिये, ऐसे धोखाधड़ी केन्द्रों को ध्वस्त किया जा सके. इनमें फ़िलिपीन्स, कम्बोडिया, लाओस और म्याँमार सहित दक्षिणपूर्व एशिया में स्थित अन्य देश हैं.

फ़िलिपीन्स की राजधानी मनीला के नज़दीक स्थित ऐसे धोखाधड़ी केन्द्रों में सैकड़ों श्रमिकों को काम पर लगाया जा जाता है.

फ़िलिपीन्स की राजधानी मनीला के नज़दीक स्थित ऐसे धोखाधड़ी केन्द्रों में सैकड़ों श्रमिकों को काम पर लगाया जा जाता है.

यूएन न्यूज़ के डेनियल डिकिन्सन ने फ़िलिपीन्स की राजधानी मनीला और उत्तर में स्थित बम्बन शहर में ऐसे दो स्थानों का दौरा किया जहाँ छापेमारी की गई थी. उन्होंने दो लोगों से बात की: फ़िलिपीन्स की सुज़ैन, और मलेशिया के डिलन* से, जिन्हें धोखाधड़ी करने की लिए मजबूर किया गया था. उन्होंने फ़िलिपीन्स आयोग PAOCC के विंस्टन कासियो से भी मुलाक़ात की.

सुज़ैन: मेरी सौतेली बहन ने मुझे धोखे से घर छोड़ने और म्याँमार जाने के लिए राज़ी किया जहाँ मुझे उसकी कम्पनी में एक मार्केटिंग नौकरी का वादा किया गया था, जो कि एक धोखाधड़ी केन्द्र निकला. मुझे अपनी बहन के कर्ज़ को चुकाने के लिए यहाँ काम करने के लिए मजबूर किया गया क्योंकि वो भाग गई थी.

मैंने एक नक़ली किरदार तैयार किया, एक अमीर युवा महिला का जो ब्रुकलिन, न्यूयॉर्क में रहती थी, और सम्पत्ति एवं व्यवसाय की मालकिन थी. प्रबन्धकों ने मुझे इंस्टाग्राम से ली गई उनकी तस्वीरें दीं ताकि मैं यह किरदार बना सकूं.

मुझे अमेरिका के तलाकशुदा पुरुषों से सम्पर्क करने और उन्हें मेरे लिए पैसे भेजने के लिए कहा गया. इसे ‘लव स्कैम’, प्यार के नाम पर धोखाधड़ी कहा जाता है.

तस्वीरों में मेरा किरदार हमेशा ख़रीदारी कर रहा होता है, पर असल में, मैं तो बाहर भी नहीं जा सकती थी. मैं इमारत के भीतर फँसी हुई थी.

हमें बातचीत में इस्तेमाल करने के लिए लिखित पटकथा दी जाती है, और जब उन्होंने मुझे अंग्रेज़ी सुधारने के लिए कहा, तो मैंने अपनी अंग्रेज़ी जाँचने के लिए एक व्याकरण सम्बन्धी ऐप का उपयोग किया. अगर आपके ग्राहक आपसे वीडियो कॉल पर मिलना चाहते हैं, तो यह भूमिका मॉडल निभाते हैं. इन मॉडल की भी तस्करी की जाती है.

सुज़ैन की म्याँमार में स्थित एक धोखाधड़ी फार्म में तस्करी की गई थी.

सुज़ैन की म्याँमार में स्थित एक धोखाधड़ी फार्म में तस्करी की गई थी.

डिलन: ज़्यादातर लोग यहाँ अपनी मर्ज़ी से नहीं आते. आपको दिन में 16 घंटे तक काम करना पड़ता है, ख़ासकर जब आपको विभिन्न समय क्षेत्रों (time zones) में ग्राहकों से सम्पर्क करना हो. प्रबन्धकों ने मुझे दुबई में एक काल्पनिक तेल सौदे में निवेश करवाने और फिर उनका पैसा चुराने के लिए कहा.

आपको कितनी बड़ी राशि धोखाधड़ी में प्राप्त करनी है, इसके लिए लक्ष्य दिए जाते थे. उन्होंने मुझे प्रतिमाह एक लाख डॉलर का लक्ष्य दिया, और मैं जब यह निर्धारित लक्ष्य हासिल नहीं कर सका, तो मुझे पीटा गया.

विंस्टन कासियो: हमने बम्बन धोखाधड़ी फार्म में लगभग 680 लोगों को बचाया, लेकिन हमें लगता है कि कुछ प्रबन्धक, कार्रवाई की भनक मिलते ही भाग गए.

ये ख़ासी व्यापक गतिविधियाँ होती हैं. लोगों को जाने नहीं दिया जाता. उन्हें उनकी मर्ज़ी के विरुद्ध रोक करके धोखाधड़ी करवाई जाती है. महिलाओं को यौन दास बनाकर तस्करी की जाती है. ऐसे केन्द्र संचालित करने वाले लोगों के पास “एक्वेरियम” नाम की एक जगह थी, जहाँ महिलाओं को ज़बरदस्ती प्रदर्शन करने के लिए मजबूर किया जाता था और फिर पुरुषों द्वारा यौन सम्बन्ध बनाने के लिए चुना जाता था.

मनीला में एक पूर्व धोखाधड़ी केन्द्र में नाई की दुकान के सामने खड़े विंस्टन कासियो.

मनीला में एक पूर्व धोखाधड़ी केन्द्र में नाई की दुकान के सामने खड़े विंस्टन कासियो.

ऐसे केन्द्रों में लगभग सभी सुविधाएँ उपलब्ध होती हैं. जैसेकि यहाँ रहने के लिए जगह और कैफ़े हैं, साथ ही एक नाई की दुकान, चिकित्सा क्लिनिक, मसाज स्पा, जुआ कक्ष, और वरिष्ठ प्रबन्धकों के लिए वीआईपी ‘कैरियोकी बार’ भी है.

यहाँ एक गलियारे से कुछ मीटर आगे, हमें एक यातना कक्ष भी मिला जिसमें हथकड़ी और दीवारों पर ख़ून के धब्बे थे, जहाँ निर्धारित कोटा पूर्ण ना करने पर लोगों को क्रूर ढंग से सज़ा दी जाती थी.

सुज़ैन: मैं कुछ लोगों को ठगने के क़रीब पहुँच गई थी, पर मुझे इसे अंजाम देना बहुत बुरा लगा, इसलिए मैंने उन्हें गुप्त रूप से चेतावनी दे दी और अपने प्रबन्धक को बताया कि उन्होंने मुझे ब्लॉक कर दिया है.

वह गुस्से में आ गया और उसने मुझे एक लोहे की पाइप से पीटा. मेरी चोटें इतनी गम्भीर थीं कि यहाँ उनका इलाज करना सम्भव नहीं था, इसलिए मुझे 3 तीन सुरक्षा गार्ड की देखरेख में अस्पताल ले जाया गया. लेकिन मैं चिकित्सकों को सच नहीं बता सकी. मैं अभी तक शारीरिक और मानसिक आघात झेल रही हूँ.

डिलन: मुझे कोई वेतन नहीं मिला, बाहर दुकानों की तुलना में धोखाधड़ी केन्द्र में दो से तीन गुना अधिक महंगा खाना ख़रीदने की वजह से उल्टा मुझ पर उधार चढ़ता गया. मुझे आज़ादी तब मिली जब एक महीने बाद यहाँ छापा मारा गया.

एक वीआईपी कैरियोकी बार, यातना कक्ष से कुछ ही मीटर दूर एक गलियारे में संचालित हो रहा था.

एक वीआईपी कैरियोकी बार, यातना कक्ष से कुछ ही मीटर दूर एक गलियारे में संचालित हो रहा था.

विंस्टन कासियो: कभी-कभी पीड़ितों और ऐसी गतिविधियों में संलिप्त ठगों के बीच अन्तर का पता कर पाना कठिन होता है. कई मामलों में लोग अपनी इच्छा के बिना ले जाए जाते हैं, पर वे चार से पाँच दिनों के प्रशिक्षण के पश्चात ग़ैरक़ानूनी गतिविधि को अपना लेते हैं और पैसे कमाते हैं. क़ानून इस स्थिति को साफ़ रूप से देखना चाहता है, परन्तु इसमें कईं धुंधले क्षेत्र हैं.

अन्तरराष्ट्रीय संगठित अपराध गुटों का नैटवर्क इन गतिविधियों को संचालित करता है, जोकि अक्सर हमसे तीन या चार क़दम आगे रहते हैं.

यह एक क्षेत्रीय समस्या है, जिसका कोई एक देश अकेले समाधान नहीं ढूंढ सकता है. यह निषिद्ध अपराध है. सुज़ैन ने पुष्टि की है कि म्याँमार और फ़िलिपीन्स के केन्द्रों में एक जैसे कम्प्यूटर और फ़र्नीचर हैं.

दक्षिणपूर्व एशिया में क़ानून प्रवर्तन एजेंसियों को सहयोग व आपसी समन्वय स्थापित करने की आवश्यकता है, और इसी कारण UNODC की भूमिका महत्वपूर्ण है. यह देशों को एकजुट कर सकता है और ‘डिजिटल फोरेन्सिक’ जाँच में विशेषज्ञता प्रदान कर सकता है.

मनीला में एक धोखाधड़ी केन्द्र पर छापा पड़ने के बाद वहाँ सन्नाटा है.

मनीला में एक धोखाधड़ी केन्द्र पर छापा पड़ने के बाद वहाँ सन्नाटा है.

सुज़ैन: अन्तिम दिनों में, मुझे एक दिन में 13 बार पीटा गया. मैंने यातना झेलने के दौरान उनसे केवल और केवल गुहार लगाई.

मुझे अपने माता–पिता को बुलाकर उनसे सात हज़ार डॉलर की फ़िरौती लेने के लिए मजबूर किया गया, जो अस्पताल के बिल का ख़र्च था. उनके पास पैसे नहीं थे, और मैंने उन्हें इसे देने की कोशिश न करने के लिए कहा.

मैंने यहाँ प्रबन्धकों से कहा कि “मुझे मार ही डालो.” उन्हें लोगों की परवाह नहीं है. उन्हें केवल पैसों से मतलब है. हालांकि, अन्त में उन्होंने महसूस किया कि मेरे पास धन नहीं हैं और मैं उनके किसी काम की नहीं हूँ, इसलिए उन्होंने मुझे छोड़ दिया.

मैंने किसी तरह थाईलैंड के रास्ते फ़िलिपीन्स वापिस लौटने की व्यवस्था की. सुज़ैन अब मनीला में PAOCC आयोग के लिए कार्य करती हैं, और डिलन ने सम्भावित क़ानूनी कार्रवाई में गवाह बनने हेतु सहमति दी है. उन्हें आशा है कि अंततः वह अपने घर मलेशिया लौट सकेंगे.

* पहचान गुप्त रखने के लिए नाम बदल दिया गया है.

Source link

Most Popular

To Top